Home > Publications & Audio Visuals > Audio Cassettes > BhajansNo. 010

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

Click on the Play Button
for all Bhajan to play as per Playlist  or
Click on any Bhajan to begin the Playlist...

Use Scroll Bar to see the complete List

No. Bhajan  Sung by Duration
A1 Ram Mujhe Madhur Milan Tera... राम मुझे मधुर मिलन मिले तेरा

राम मुझे मधुर मिलन मिले तेरा

राम मुझे मधुर मिलन मिले तेरा ॥

मन मुख माया मुख बन मोही,
भरम में भटका बहुतेरा ॥१॥

अशरण-शरण की चरण शरण में,
निश दिन बने बसेरा ॥२॥

गाऊँ मैं राम राम मधुर धुन,
सब दिन सांझ सबेरा ॥३॥

तेरे मेल में मिल हो जायें,
'मैं' तेरा 'तू' मेरा ॥४॥

धुन-- जय जय राम
        जय सिया राम

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

Shri Virendra Katyal 06:47
A2 Saancha Naam Tera... सांचा नाम तेरा

सांचा नाम तेरा, तू ही एक सहारा

सांचा नाम तेरा, तू ही एक सहारा,
मेरे राम तेरा नाम, जपूँ मैं सुबह शाम ॥

जब से मन में तुम्हें बसाया,
निर्मल हो गई मेरी काया ।
धन्य हो गया जीवन मेरा,
तुझको पाकर राम ॥

मन में ज्ञान की जोत जगाना,
सत्य की राह में मुझे चलाना ।
जन की सेवा धर्म हो मेरा,
कर्म करूँ निष्काम ॥

प्राण मेरे जब तन से निकलें,
नाम तेरा ही मुख से निकले ।
यही अभिलाषा है बस मेरी,
पूरी करना राम ॥

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

07:07
A3 He Dayamay Deen Bandhu.. हे दयामय दींन बंधु

हे दयामय दीनबन्धु

हे दयामय दीनबन्धु, दीन को अपनाईये ।
डूबता बेड़ा मेरा, मझधार पार लँघाइये ॥

नाथ तुम तो पतितपावन, मैं पतित सबसे बड़ा ।
कीजिये पावन मुझे, मैं शरण में हूँ आ पड़ा ॥

तुम गरीबनवाज हो, ये जग सारा कह रहा ।
मैं गरीब अनाथ हूँ, नित दु:खप्रवाह में बह रहा ॥

इस गरीबी से छुड़ाकर, कीजिये मुझको सनाथ ।
तुमको पाकर नाथ मैं, फिर क्यूँ कहाऊँ मैं अनाथ ॥

अब नहीं ऐसा उचित, प्रभु कृपा मुझपर कीजिये ।
पापका बन्धन छुड़ा नित-शांति मुझको दीजिये ॥

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

07:13
A4 Tera Saathi Ram Hai... तेरा साथी राम है

तेरा साथी राम

तेरा साथी राम मनवा क्यों घबराए रे ।

   
पल भर भी तु नहीं अकेला,
   
पग-पग तेरा राम सहेला,
   
वे हैं तो कुछ नहीं दुहेला,
निशदिन आठों याम, मनवा क्यों घबराए रे ॥

   
अंग संग नित पास है तेरे,
   
घट में ही तो वास है तेरे,
   
निकट कि सांस-सांस है तेरे,
आनन्द कन्द घनश्याम, मनवा क्यों घबराए रे ॥

   
प्रीत न कोई अंत निभाए,
   
एक राम एक संत  निभाए,
   
बाकी दुनिया आए-जाए,
अविचल आंचल थाम मनवा क्यों घबराए रे ॥

   
दुख सुख आता है जाता है,
   
राम विमुख ही विचलाता है,
   
पर 'निर्दोष' न घबराता है,
सब तज भज हरिनाम मनवा क्यों घबराए रे ॥

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

09:33
B1 Gurudev Daya Karke... गुरुदेव दया करके

गुरुदेव दया करके

गुरुदेव दया करके मुझको अपनालेना ।
मैं शरण पड़ा तेरी चरणों में जगह देना ॥

करुणानिधि नाम तेरा, करुणा दिखलाओ तुम,
सोये हुए भाग्यों को, हे नाथ जगाओ तुम,
मेरी नाव भंवर डोले, उसे पार लगा देना ॥
गुरुदेव दया करके ...

तुम सुख के सागर हो, निर्धन के सहारे हो,
मेरे मन में समाए हो, मुझे प्राणों से प्यारे हो,
नित माला जपूं तेरी, नहीं दिल से भुला देना ॥
गुरुदेव दया करके ...

पापी हूँ या कपटी हूँ, जैसा भी हूँ तेरा हूँ,
घरबार छोड़कर मैं, जीवन से खेला हूँ,
दुख का मारा हूँ मैं, मेरे दुखड़े मिटा देना ॥
गुरुदेव दया करके ...

मैं तेरा सेवक हूँ, चरणों का चेरा हूँ,
नहीं तात भुला मुझको, इस जग में अकेला हूँ,
तेरे दर का भिखारी हूँ, मेरे दोष मिटा देना ॥
गुरुदेव दया करके ...

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

07:48
B2 Jise Dekhta Hnu Vahi Roop Tera... जिसे देखता हूँ वही रूप तेरा

जिसे देखता हुँ, वही रूप तेरा

जिसे देखता हूँ, वही रूप तेरा,
कि हरएक में तू समाया हुआ है ॥

ये दुनिया है तेरे ही हाथों का जादू,
ये कांटे नुकीले, ये फूलों में खुशबू,
सुखी जन का हँसना, दु:खी मन के आँसू,
ग़ज़ब राम नक्शा बनाया हुआ है ॥
जिसे देखता हूँ ...

कहीं पे तू धनवान बन, राज भोगे,
कहीं दीन मोहताज़ है चीथड़ों के,
कहीं बिक रहा मोल तू कौड़ियों के,
कहीं लाख साधन से पाया हुआ है ॥
जिसे देखता हूँ ...

कहीं पे तू माँ बाप भाई है भगवन,
कहीं पे पति पत्नी प्यारों के बन्धन,
कहीं दोस्त है तू, कहीं जानी दुश्मन,
ज़हर और अमृत मिलाया हुआ है ॥
जिसे देखता हूँ ...

कहीं पे बुढ़ापा, लड़कपन जवानी,
हज़ारों शक़ल में तू है ज़िन्दगानी,
ये  'निर्दोष' तेरी अमर है कहानी,
कहीं अंत तेरा न आया हुआ है ॥
जिसे देखता हूँ ...

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

5:53
B3 Meri Banh Pakad Lo Ek Baar... मेरी बांह पकड़ लो एक बार

मेरी बाँह पकड़ लो एक बार

मेरी बाँह पकड़ लो एक बार,
   
प्रभु एक बार, बस एक बार ।

यह जग अति गहरा सागर है,
मेरे सिर पापों की गागर है।
   
कुछ हल्का कर दो भार,
   
प्रभु एक बार, बस एक बार ॥

एक जाल बिछा मोह माया का,
एक धोखा कंचन-काया का ।
   
मेरा कर दो मुक्त विचार,
   
प्रभु एक बार, बस एक बार ॥

है कठिन डगर, मुश्किल चलना,
बल हीन को बल दे दो अपना ।
   
कर जाऊँ भव भय पार,
   
प्रभु एक बार, बस एक बार ॥

मैं हार गया अपने बल से,
'
निर्दोष' बचाओ जग-छल से ।
   
सौ बार नहीं बस एक बार,
   
प्रभु एक बार, बस एक बार ॥

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

7:36
B4 Na Kho Vishwas... न खो विश्वास

न खो विश्वास न मन को हार

न खो विश्वास न मन को हार,
मिलेगा अवश्य प्रभु का प्यार,
   
प्रभु बड़ा दयालु है, प्रभु बड़ा दयालु है ।

कितनी ही भूलें हों तेरी कितना ही हो पाप,
सच्चे मन से क्षमा माँग ले, कर ले पश्चाताप,
   
सौंप दे नौका की पतवार,
   
करेगा खुद ही परले पार,
   
प्रभु बड़ा दयालु है, प्रभु बड़ा दयालु है ॥

कितना ही तू दीन हीन रे, कितना दुखी निराश,
दाता घूमे नगरी-नगरी, बाँट रहा विश्वास,
   
मांग ले जितना है दरकार,
   
भरा है दाता का भण्डार,
   
प्रभु बड़ा दयालु है, प्रभु बड़ा दयालु है ॥

कौड़ी तेरे पास नहीं है, है तू खाली हाथ,
भोला बन, मन राम सुमर ले - राखे दीनानाथ,
   
खुला रहता है उसका द्वार,
   
करेगा ज्यों का त्यों स्वीकार,
   
प्रभु बड़ा दयालु है, प्रभु बड़ा दयालु है ॥

धुन -- वन्दे रामं सचिच्दानन्दं

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

9:32

 

 

 


Organization | Philosophy I  Peerage | Visual Gallery I Publications & Audio Visuals I Prayer Centers I Contact Us

InitiationSpiritual ProgressDiscourses I Articles I Schedule & Program I Special Events I Messages I  Archive

 

  Download | Search | Feed Back I SubscribeHome

Copyright   Shree Ram Sharnam,  International Spiritual Centre,

8A, Ring Road, Lajpat Nagar - IV,  New Delhi - 110 024, INDIA