Home > Publications & Audio Visuals > Audio Cassettes > BhajansNo. 015

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

Click on the Play Button
for all Bhajan to play as per Playlist  or
Click on any Bhajan to begin the Playlist...

Use Scroll Bar to see the complete List

No. Bhajan  Sung by Duration
A1 Nainheen Ko Raah Dikha Prabhu नैन हीन को राह दिखा प्रभु

नैन हीन को राह दिखा प्रभु

नैन हीन को राह दिखा प्रभु,
पग पग ठोकर खाऊँ मैं ॥

तुम्हरी नगरिया की कठिन डगरिया,
चलत चलत गिर जाऊँ मैं ॥
नैन हीन को . . .

चहुँ ओर मेरे घोर अन्धेरा,
भूल न जाऊँ मैं द्वार तेरा,
एक बार प्रभु हाथ पकड़ लो,
मनका दीप जलाऊँ मैं ॥
नैन हीन को . . .

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

Anupama Malhotra 05:13
A2 Sadho Eisa Hi Guru Bhave साधो ऐसा ही गुर भावे

साधो ऐसा ही गुरु भावे

साधो ऐसा ही गुरु भावे,
राग रंग का भर भर प्याला,
पीवे और पिलावे ॥
साधो ऐसा ही गुरु भावे . . .

नाद छिपा तन में न मन में,
कोई पता न पावै,
चांद सूरज का लोचन गुरु का,
देखे और दिखावै
साधो ऐसा ही गुरु भावे . . .

परम हंस गुरु अंश रूप जब,
हृदय बीच बिराजे,
सात सुरों की बानी मेरी,
राम नाम गुण गावे ॥
साधो ऐसा ही गुरु भावे . . .

एक ही सब सुख दुख दिखलावे,
शब्द में सूरत समावे,
कहे कबीर ताको भय नाहीं,
निर्भय पद परसावै ॥
साधो ऐसा ही गुरु भावे . . .

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

05:23
A3 Prabhu Ji Tum Chandan Hum Paani प्रभु जी तुम चंदन हम पानी

प्रभुजी, तुम चन्दन हम पानी

प्रभुजी, तुम चन्दन हम पानी,
जाकी अँग अँग बास समानी ॥

प्रभुजी, तुम घन बन, हम मोरा,
जैसे चितवत चंद चकोरा ॥

प्रभुजी, तुम मोती हम धागा,
जैसे सोने हि मिलत सुहागा ॥

प्रभुजी, तुम दीपक, हम बाती,
जाकी जोति जगै दिन राती ॥

प्रभुजी, तुम स्वामी, हम दासा,
ऐसी भगति करै रैदासा ॥

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

06:33
A4 Janm Safal Hoga Re Bande जन्म सफल होगा रे बंदे

जन्म सफल होगा रे बन्दे

राम नाम जप हे मना, अमृतवाणी मान,
राम नाम में राम को सदा विराजित जान ॥

जन्म सफल होगा रे बन्दे,
मन में राम बसाले,
हे राम नाम के मोती को,
सांसों की माला बनाले,
मन में राम बसाले, जन्म सफल . . .

राम पतित पावन करुणाकर,
और सदा सुखदाता,
सरस सुहावन अति मन भावन,
राम से प्रीत लगाले,
मन में राम बसाले, जन्म सफल . . .

मोह माया है झूठा बन्धन,
त्याग उसे तू प्राणी,
राम नाम की ज्योत जलाकर,
अपना भाग्य जगाले,
मन में राम बसाले, जन्म सफल . . .

राम भजन में डूब के अपनी,
निर्मल करले काया,
राम नाम से प्रीत लगा के,
जीवन पार लगाले,
मन में राम बसाले, जन्म सफल . . .

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

09:17
B1 Tere Mandir Ka Hnu Deepak तेरे मंदिर का हूँ दीपक

तेरे मन्दिर का हूँ दीपक

तेरे मन्दिर का हूँ दीपक जल रहा,
आग जीवन में मैं भर कर चल रहा
जल रहा
तेरे मन्दिर का हूँ दीपक जल रहा

क्या तू मेरे दर्द से अंजान है,
तेरी मेरी क्या नई पहचान है,
जो बिना पानी बताशा गल रहा,
आग जीवन में मैं भर कर चल रहा
तेरे मन्दिर का हूँ दीपक जल रहा

इक झलक मुझको दिखा दे सांवरे,
मुझको ले चल तू कदम्ब की छांव रे,
ओ रे छलिया क्यूँ मुझे तू छल रहा,
आग जीवन में मैं भर कर चल रहा
तेरे मन्दिर का हूँ दीपक जल रहा

मैं पथिक मद बांसुरी की बाट का,
एक धुन पर सौ तरह से नाचता,
आंख से जमुना का पानी ढल रहा,
आग जीवन में मैं भर कर चल रहा
तेरे मन्दिर का हूँ दीपक जल रहा

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

05:08
B2 Tum Meri Raakho Laaj Hari तुम मेरी राखो लाज हरी

तुम मेरी राखो लाज हरि

तुम मेरी राखो लाज हरि,
तुम जानत सब अंतरजामी, करनी कछु न करी ॥

औगुन मोते बिसरत नाहीं, पल छिन घरी घरी,
सब प्रपंचकी पोट बाँधि कै, अपने सीस धरी ॥

दारा-सुत-धन मोह लिये हैं, सुधि-बुधि सब बिसरी,
सूर पतित को बेग उधारो, अब मेरी नाव भरी ॥

श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी,
हे नाथ नारायण वासुदेवा

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

06:38
B3 Kanha Re Tu Radha Ban Ja कान्हा रे तू राधा बन जा

कान्हा रे तू राधा बन जा

कान्हा रे तू राधा बन जा,
भूल पुरुष का मान,
तब होगा तुझ को राधा की,
पीड़ा का अनुमान रे,
कान्हा रे . . . कान्हा रे . . .

तू चंचल है तू क्या जाने नारी मन की बात,
क्यूँ रहती है राधा के दो नयनों में बरसात,
ओ कान्हा रे कान्हा रे . . .
तू ही जब यह पीड़ न जाना, फिर क्या तेरा ज्ञान,
तब होगा तुझ को राधा की,
पीड़ा का अनुमान रे,
कान्हा रे . . . कान्हा रे . . .

प्रेम दिवानी राधा को तू माखन से ना तौल,
राधा का मन टूट गया तो क्या होगा रे बोल,
ओ कान्हा रे कान्हा रे . . .
देर नही है तज दे कान्हा अपना ये अभिमान,
तब होगा तुझ को राधा की,
पीड़ा का अनुमान रे,
कान्हा रे . . . कान्हा रे . . .

तेरे कारण राधा का ये हाल हुआ रे श्याम,
राधा के अधरों पे रहता पल पल तेरा नाम,
ओ कान्हा रे कान्हा रे . . .
ऐसे तो न बन राधा के दुख से तू अंजान,
तब होगा तुझ को राधा की,
पीड़ा का अनुमान रे,
कान्हा रे . . . कान्हा रे . . .

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

06:54
B4 Guruvar Tumhare Pyar Ne गुरुवर तुम्हारे प्यार ने

गुरुवर तुम्हारे प्यार ने

गुरु को करिये वन्दना,
भाव से बारम्बार,
नाम सुनौका से किया,
जिसने भव से पार ॥

गुरुवर तुम्हारे प्यार ने,
जीना सिखा दिया,
मुझको तुम्हारे प्यार ने,
इंसान बना दिया ॥

रहते हैं जलवे आपके नजरों में हर घड़ी,
मस्ती का जाम आपने ऐसा पिला दिया,
ऐसा पिला दिया ॥
गुरुवर तुम्हारे प्यार ने . . .

जिस दिन से मुझको आपने अपना बना लिया,
दोनो जहाँ को हे प्रभु तब से भुला दिया,
तब से भुला दिया ॥
गुरुवर तुम्हारे प्यार ने . . .

जिस ने किसी को आजतक सजदा नहीं किया,
वो सिर भी मैने आपके दर पे झुका दिया,
दर पे झुका दिया ॥
गुरुवर तुम्हारे प्यार ने . . .

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

06:09

 

 


Organization | Philosophy I  Peerage | Visual Gallery I Publications & Audio Visuals I Prayer Centers I Contact Us

InitiationSpiritual ProgressDiscourses I Articles I Schedule & Program I Special Events I Messages I  Archive

 

  Download | Search | Feed Back I SubscribeHome

Copyright   Shree Ram Sharnam,  International Spiritual Centre,

8A, Ring Road, Lajpat Nagar - IV,  New Delhi - 110 024, INDIA