Home > Publications & Audio Visuals > Audio Cassettes > Bhajans > CD-08 / Cassette 18

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

Click on the Play Button
for all Bhajan to play as per Playlist  or
Click on any Bhajan to begin the Playlist...

Use Scroll Bar to see the complete List

No. Bhajan  Sung by Duration
A1 Sai Bin Darad Kareje Hoye साईं बिन दरद कलेजे होये

भजन - संत कबीर दास/पारम्परिक

सांई बिनु दरद करेजे होय |

दिन नहिं चैन, रैन नहिं निंदिया ,
कासे कहूँ दुख होय,
दरद करेजे होय ||
सांई बिनु ~~~

आधी रतियां, पिछले पहरवा,
तरस तरस रही सोय,
कहत कबीर सुनो भई साधो,
सांई मिले सुख होय,
दरद करेजे होय ||
सांई बिनु ~~~

गगन मंडल में सेज तुम्हारी,
हम हैं साधारण संसारी,
किस विधि मिलना होय,
दरद करेजे होय ||
सांई बिनु ~~~

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

Shri V N Shrivastava 5:46
A2 Bole Bole Re Ram बोले बोले रे राम

'राम चिरैया'
[एक पारम्परिक रचना पर आधारित नया भजन]

बोले बोले रे राम चिरैया ।
मेरे साँसों के पिंजरे में घड़ी घड़ी बोले ,
बोले बोले रे राम चिरैया ||

ना कोई खिड़की, ना कोई डोरी ,
कैसे चोर करेगा चोरी ?
जब राम मेरा रखवैया रे |
बोले बोले रे राम चिरैया ||

किसकी नैया ? कौन खिवैया ?
कौन करे इसकी रखवैया ?

जब तेज चले पुरवैया रे |
बोले बोले रे राम चिरैया ||

रामजी की नैया, रामजी खिवैया,
रामजी करें उसकी रखवैया ,
भज ले मन राम रमैया रे |
बोले बोले रे राम चिरैया ||
मेरे साँसों के पिंजरे में घड़ी घड़ी बोले ,
बोले बोले रे राम चिरैया ||

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

Shri V N Shrivastava 5:44
A3 Chaliye Chaliye Chaliye Shree Ram Sharan Chaliye चलिए चलिए चलिए श्री राम शरण चलिए

भजन - "राम शरण चलिये"
[राग कलावती पर आधारित]

चलिये चलिये चलिये श्री राम शरण चलिये |
साधक जन श्रद्धा भक्ति से गुरु चरन कमल धरिये ||
चलिये चलिये ~~~

सत्गुरु सच्चा पथ जाने हैं ,
वह राम धाम पहिचाने हैं |
अब नहीं भटकिये साधकजन गुरु की अंगुली धरिये |
चलिये चलिये चलिये श्री राम शरण चलिये ||

दुरलभ भी सुलभ बनायेंगें,
मन वांछित फल दिलवायेंगें,
यदि श्रद्धा से हम प्रेम सहित गुरुमंत्र सदा ही गायेंगें |
चलिये चलिये चलिये श्री राम शरण चलिये ||

तू समझ ना पायेगा कैसे,
कट जायेगा तेरा जीवन,
पीड़ायें सब धुल जायेंगी,
बरसेगा जब रामामृत धन ||
चलिये चलिये चलिये श्री राम शरण चलिये |
साधक जन श्रद्धा भक्ति से गुरु चरन कमल धरिये ||


DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

Shri Alok Sahdev 7:16
A4 Darshan Do Guru Pran Pyare दर्शन दो गुरु प्राण प्यारे

भजन - "गुरु प्रीति "
[राग चारुकेशी पर आधारित]

दोहा:
गुरुजन देव समान हैं सतगुरु हैं प्रभु रूप |
गुरु-मूरत में देखिये साधक राम स्वरूप ||

दरशन दो गुरु प्रान प्यारे
अब तुम बिन नहि रहा जाय रे ||

भ्रम भूलों से घिरा हुआ हूँ,
अंध कूप में गिरा हुआ हूँ |
मोह जाल में फंसा हुआ हूँ ,
तुम बिनु मोहे कौन उबारे ||
दरशन दो ~~~

चलती बेला दरस किया था,
गुरुवर ने संदेश दिया था |
जीवन के दिन गिने चुने हैं ,
प्रभु को नहीं भुलाना प्यारे ||
दरशन दो ~~~

बाकी कितना भोग अभी है ,
सतगुरु तुमको ज्ञात सभी है ,
जिस पर तेरी कृपा दृष्टि है,
उसको फिर क्यूं हो चिंता रे ||
दरशन दो ~~~

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

Shri V N Shrivastava 9:18
B1 Hum Se Bhali Jungle Ki Chidiya हम से भली जंगल की चिड़िया

'जंगल में राम धुन' - भजन
[राग केदार पर आधारित]

हमसे भली जंगल की चिड़ियाँ
जब बोलें तब रामहि राम ||

ब्रह्म मुहूरत उठ कर पंछी प्रभु का ध्यान लगाते हैं ,
चहक चहक मधुमय रामामृत जंगल में बरसाते हैं ||
पर हम अहंकार में डूबे अपने ही गुन गाते हैं ,
गुरु जन के आदेश भूल हम जीवन व्यर्थ गंवाते हैं ||
हमसे भली जंगल की चिड़ियाँ
जब बोलें तब रामहि राम ||

कितने भाग्यवान हैं हम सब ऐसा सतगुर पाया है ,
जिसने हमको "राम" नाम का सहज योग सिखलाया है |
माया जंजालों में फँस कर हमने उसे भुलाया है ,
पर चिड़ियों ने राम मंत्र जीवन भर को अपनाया है ||
हमसे भली जंगल की चिड़ियाँ
जब बोलें तब रामहि राम ||

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

Shri V N Shrivastava 5:36
B2 He Dukh Bhanjan Raghunath Haro Dukh Mere हे दुखभंजन रघुनाथ हरो दुःख मेरे

भजन - "अंतिम प्रार्थना"
[राग भैरवी पर आधारित]

हे दुखभंजन रघुनाथ हरो दुख मेरे,
अपना लो दीनानाथ दास हम तेरे |


युओं युगों से सुनते आये, तुम सबके दुख हरते ,
सभी निराश जनों की झोली, तुम आशा से भरते |
गुरु, पितु मातु, सहायक सबके, सबका हित ही करते,
हम भी झोली ले हाथ, लगाये आस, खड़े दर तेरे ||
हे दुखभंजन ~~~

लाखों योनि भटक कर हमने ये मानव तन पाया ,
यह दुरलभ जीवन भी प्रभुजी मैंने व्यर्थ गँवाया ,
कभी न आया संत शरन में, कभी न हरि गुन गाया,
अब कैसे हो उद्धार, लगें हम पार, न समुझ परे रे ||
हे दुख भंजन ~~~

गीध अजामिल गज गणिका को तुमने पार लगाया,
पत्थर बनी अहिल्या को तुमने ही राम जिलाया ,
ध्रुव प्रह्लाद विभीषण को तुमने निज धाम पठाया,
हम भी तो दीनानाथ, तुम्हारे दास, चरन के चेरे ||
हे दुख भंजन ~~~

हमें पता है, इक दिन तुम मेरी भी अरज सुनोगे,
निज चरणों पर, यह पापी सिर, प्रभु तुम रखने दोगे,
अहंकार मेटोगे, मेरे अवगुण सभी हरोगे ,
काटोगे माया जाल, प्रभु, तत्काल सुनोगे नेरे ||
हे दुख भंजन ~~~
 


DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

Shri V N Shrivastava 9:00
B3 Guru Darshan Bin Hamein na Jeena गुरु दर्शन बिन हमें न जीना

भजन - "गुरु दरशन"
[राग भैरवी पर आधारित]

गुरु दरशन बिनु हमें न जीना,
उन बिन और भाय कुछ भी ना ||
गुरु दरशन ~~~

दिवस न भूख, नींद नहिं रैना,
निकसत नाहीं मुख सों बैना,
बिरहा जल जर जर तन कीना ||
गुरु दरशन ~~~

निज घर छोड़ बहुत दिन भटका,
हा दर पर जा कर सिर पटका,
तुमसा सांई कहीं मिला ना ||
गुरु दरशन ~~~

बिनु हरि कृपा कठिन है पाना,
ऐसा गुरु जो हरे अज्ञाना ,
नाम करावे मन आसीना ||
गुरु दरशन ~~~

DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

Shri V N Shrivastava 6:49
B4 Shyam Hamein Bansuri Banao श्याम हमें बांसुरी बनाओ

भजन - "गोपिका विनय"
[राग भूपाली पर आधारित]

श्याम हमें बांसुरी बनाओ

सघन कटीले बाँस बनों से,
काट हमें निज आंगन लाओ,
कटि बांधौ अपने संग राखो,
शपथ लली की जिन बिलगाओ ||
श्याम हमें बांसुरी ~~~

काटो, छांटो, दागो जी भर,
छेद करो जितने भी चाहो,
छलनी भलै करो तन मेरा,
पर मेरे मन से मत जाओ ||
श्याम हमें बांसुरी ~~~

मल, विक्षेप, आवरण हर कर,
मेरा अंतर शून्य बनाओ,
कर दो मन निष्काम हमारा,
भक्ति सुरस इसमें सरसाओ ||
श्याम हमें बांसुरी ~~~


DOWNLOAD TEXT Script of all bhajans of this series (PDF)

 

Shri V N Shrivastava 5:43

 

 


Organization | Philosophy I  Peerage | Visual Gallery I Publications & Audio Visuals I Prayer Centers I Contact Us

InitiationSpiritual ProgressDiscourses I Articles I Schedule & Program I Special Events I Messages I  Archive

 

  Download | Search | Feed Back I SubscribeHome

Copyright   Shree Ram Sharnam,  International Spiritual Centre,

8A, Ring Road, Lajpat Nagar - IV,  New Delhi - 110 024, INDIA