Home > Initiation > For New Initiated Devotees

साधना सत्संग  SADHNA SATSANG

View Video Clip about Sadhna Satsang

नवीन साधक को दीक्षा लेने के पश्चात कम से कम एक बार तो साधना सत्संग में अवश्य सम्मिलित होना चाहिए.

श्री स्वामीजी महाराज ने दीक्षित साधकों की उन्नति हेतु उन्हें सिधाने के लिए, साधना सत्संग शिविर लगने आरंभ किये, जो साधकों के लिए उनकी अनुपम देन है. यह सत्संग ५ रात्रि या ३ रात्रि के लगाए जाते है, जहाँ साधक कुछ समय के लिए सांसारिक बंधनों से हटकर व परिवार से दूर जाकर क्रियात्मक (PRACTICLE) साधना करते हैं. इस से उनकी उन्नति के मार्ग की बाधाएं दूर होती हैं.

यह एक पाठशाला के समान है. यहाँ वे अनुशासन व नियमों का पालन करना सीखते हैं, साथ ही भजन करने का स्वभाव बनाते हैं. "युक्ताहार विहारास्य, युक्त चेष्टस्य कर्मेशु" के अनुसार जीवन बनाते हैं.
ये पांच/तीन-रात्रि साधना सत्संग बड़े ही महत्वपूर्ण होते हैं. लगातार पांच दिन गुरु के निकट संपर्क में रहने से शेष ३६० दिन के लिए सार्थक जीवन जीने की कला सीखने को मिलती है, जो हमारे व्यावहारिक जीवन के निर्माण में सहायक होती है.

यहाँ से ही हम स्वछता, नियमितता, शिष्टाचार, सेवा, संयम, विनम्रता आदि मानवीय गुण सीखते हैं अर्थार्त हम सच्चे मानव बनने की ओर अग्रसर होते हैं. हमारी दिनचर्या साधना-सत्संग के अनुसार होनी चाहिए. साधना सत्संग भारत के कई प्रान्तों में आयोजित होते हैं. मुख्यतः हरिद्वार "श्री राम शरणम" में वर्ष में ५-६ साधना सत्संग आयोजित होते हैं.

साधना सत्संग सौभाग्य की जगह है .अद्भुत अनुभव की जगह है.कुछ साधक इतने भाव से भरकर आते हैं की कई दिनों ताक नशा सा छाया रहता है. परन्तु कुछ ऐसे भी हैं जो जैसे आते है वैसे ही लौट आते हैं. क्यूंकि समर्पण का भाव नहीं आता, जप नहीं करते, नियमों में नहीं रहते.

A new devotee — aspirant after being initiated should attend at least one Sadhna Satsang.

Venerable Swami Satyanandji had started the Sadhna Satsangs or retreats with the sole objective of imparting discipline and training to the devotees. These Sadhna Satsangs are a novel and unique gift of Swamiji to the devotees.

These Satsangs or retreats are organised for three to five nights where the aspirants, forgetting worldly cares and family attachments, practice spiritual practice, devotion or Sadhana. This removes all the obstacles in their spiritual progress. This is like a training school where they learn discipline, regularity and punctuality and also learn praying and chanting the Lord’s name. Their lives are shaped, as enshrined in Shree Bhagwad Geeta, as a person "who is regulated in diet and recreation, disciplined in the performance of work".

"YUKTAHAR VIHARASYA, YUKTA CHESHTASYA KARMESHU"

These five night-long retreats are very important and useful. Continued stay in close contact with the spiritual guide for five days enables us to live meaningful and purposeful life for 360 days of the year by helping and guiding our day to day life.

It is here that we learn the values of cleanliness, regularity, punctuality, good conduct, service, self-control, restraint, humility and compassion. In other words we learn to become good human beings. Our daily routine should be as per the routine followed in Sadhna Satsangs. These retreats are organised in many parts of India (Prayer Centres). Our main Satsangs, about 6-7 in a year, are organized in Shree Ram Sharnam, Haridwar.

 

View Video Clip about Sadhna Satsang

List of Sadha Satsang


Organization | Philosophy I  Peerage | Visual Gallery I Publications & Audio Visuals I Prayer Centers I Contact Us

InitiationSpiritual ProgressDiscourses I Articles I Schedule & Program I Special Events I Messages I  Archive

 

  Download | Search | Feed Back I Subscribe | Home

Copyright   Shree Ram Sharnam,  International Spiritual Centre,

8A, Ring Road, Lajpat Nagar - IV,  New Delhi - 110 024, INDIA