Home > Publications & Audio Visuals > Scriptures (Granth - Books)

प्रवचन पीयूष 
(Pravachan Piyush)



(New updated version released on 20th July 2008)

प्रार्थना

हे तेजोमय परमेश्वर !
हमें इस संसार की यात्रा में सफलता के लिए सुपथ पर चलाइये |
हमारी दुर्बलताओं को आप जानते हैं |अपने कुटिल रूपमय पापों को दूर करने में हम असमर्थ हैं |
 
ऐसी शक्ति दीजिये कि हम उन सबसे पार पा सकें तेरी कृपा अनन्त है |
 
तेरी कृपा हमें सदैव उठाती रही है हम तेरी कृपा का कभी ऋण नहीं चुका सकते
तेरे मंगलमय द्वार पर यह नमस्कार स्वीकार हो |

उपनिषद मंत्र

अनुक्रमणिका

प्रकरण - संकेत पृष्ठ क्रमांक
प्रार्थना 1
श्री स्वामी जी की जीवन- यात्रा 3
अध्यात्म-योग
अध्यात्म-विज्ञान 13
अध्यात्म्वाद 16
संत-पथ 17
नाम-योग
व्यास-पूजा के उपलक्ष में शुभ संदेश1,2,3,4 18
मंत्र-योग 26
शब्द-बल 31
नाम-महिमा 33
नाम की महिमा - १ 34
नाम की महिमा - २ 37
नाम की महिमा - ३ 41
नामी 46
नाम में ही नामी है - १ 47
नाम में ही नामी है - २ 48
भावना में भगवान् 49
अध्यात्म-चिकित्सा 51
मन की आध्यात्मिक चिकित्सा 53
नामोपसना 55
साधन-योग
राम-कृपा अवतरण - १, २, ३, ४ 57
ब्रह्म मुहूर्त में साधना 67
विज्ञान-मूलक साधना 69
साधन की दृढ-भूमि 70
साधना में प्रबल-भावना 73
साधना में लगन शीलता 74
साधना को महत्व 76
साधन को प्रमुखता 81
साधना में इश्वर-दर्शन का अनुभव 83
साधना में विश्वास 84
साधना में सहायक कुछ बातें 85
साधना में बाधक मुख्य बातें 89
नाम-उपासना में संशय बाधक 91
असफलता का कारण खोजो 93
साधन में विरोधी शक्तियों एंव उन्हे जीतने के उपाय 96
उन्नति-चिन्ह
साधना में कठिनाईयों एंव उन्नति-चिन्ह 99
स्वात्म-प्रतीति 103
साधक की अवस्थायें 105
आत्म-जागृति के चिन्ह 107
        नाद - १ 108
        नाद - २ 108
वाणी 110
समर्पण-भाव से लाभ 111
श्रद्धा
श्रद्धा - 1 112
श्रद्धा - 2 114
श्रद्धा - 3 115
श्रद्धा - 4 117
विश्वास
विश्वास 119
विश्वास-पूर्वक आराधना 121
विश्वास-पूर्वक आराधना से महिमा स्वयं अनुभव होती है 124
संशय-रहित विश्वास 125
निश्चय 130
ध्यान-योग
अधिष्ठान -१, २, ३ 131
ध्यान में बैठने की पूर्व तैयारी 140
ध्यानावस्था में मन की स्थिती 142
ध्यान  143
प्रभु विद्या (योग)  144
सिमरन- योग 
सिमरन से आंतरिक लाभ 146
जप एक आध्यात्मिक तप 149
माला की उपयोगिता एंव महत्व 151
नियत स्थान में जाप का प्रभाव 153
कीर्तन
कीर्तन 155
कीर्तन का प्रभाव एंव मनन 158
कीर्तन में संत-वाणी का प्रभाव 159
सत्संग
सत्संग 162
उत्तम सत्संग 164
स्वाध्याय
स्वाध्याय - १ 167
स्वाध्याय - २ 168
स्वाध्याय - ३ 171
सदग्रंथ
वेदों में मानव-तन १ से ७ 174
उपनिषद एंव उनका महत्व 197
        ब्रह्म-विद्या 198
        श्रेय और प्रेय मार्ग 200
        उतिष्ठ्त, जागृत 202
        आत्म का स्वरूप 205
        आत्म अमर है 207
        समर्पणे त्यागम 209
गीता 211
गीता भाष्य पर भगवान् श्री कृष्ण की साक्षी  212
भक्त के लक्षण - १, २, ३ 213
गीता का आदर्श भक्त 218
दैवी-गुण (गीता का सोलहवां अध्याय) 220
दैवी-संपद के लक्षण 226
देव और असुर 246
मन की चंचलता व उसका समाधान  249
अज्ञान ही पाप का मूल है  253
चरित्र निर्माण  258
रामायण  268
परिशिष्ट श्री रामायण-सार 270
        नाम महिमा 271
        भक्ति 274
        राम-कृपा 279
        अमृतवाणी  281
ईश्वर सत्य-स्वरूप है (भक्ति-प्रकाश) 282
आत्मिक-भावनाएं (भक्ति-प्रकाश) 285
सेवा-भाव
सेवा 287
व्यवहार 291
प्रार्थना
प्रार्थना - १ 295
प्रार्थना - २ 299
प्रार्थना - ३ 303
प्रार्थना-परम विश्वास व सत्य का पालन 305
निष्काम प्रार्थना 310
सकाम प्रार्थना 312
सजीव विश्वास 314
आस्तिक-भाव (प्रार्थना से) 318
प्रार्थनाशील की पात्रता 322
प्रार्थनाशील की पर-हित सेवा 325
वाणी एंव काया का तप 327
भक्ति-योग
अनन्य-भक्ति 329
भक्ति अनन्य हो 331
भक्ति-महत्व 334
अव्यभिचारिणी भक्ति 336
नाम भक्ति  338
कर्म-योग
दो मार्ग 341
सुकृत कर्म 345
परमार्थ कर्म 348
कर्म-उपासना 352
क्रियाशीलता 354
सत्कर्मों को स्वयं करना 356
आचार 360
चरित्र-निर्माण-१ 363
चरित्र-निर्माण-२ 367
सजगता 369
आत्म-निरिक्षण 371
धर्म
धर्म 372
धर्म के लक्षण 376
धर्म-पालन 379
साधना-सत्संग
साधना-सत्संग का इतिहास 383
साधना-सत्संग की प्रथम बैठक - १ 386
साधना-सत्संग की प्रथम बैठक - २ 388
साधना-सत्संग में राम-नाम का आराधन मुख्य है 391
साधना-सत्संग के नियमों को जीवन में बसाना 396
साधना-सत्संग (जीवन में नियमों का पालन) 399
नियमितता - १ 404
नियमितता - २ 407
साधना-सत्संग जीवन में एक शुभ संस्कार 411
राम-नाम आराधना  416
साधना-सत्संग के नियमों का दूसरों में भी संचार करें 420
आत्म-भाव की जागृति 423
रामायणी-सत्संग-१ 425
रामायणी-सत्संग-२ 426
साधना-सत्संग के समापन पर प्रार्थना 429
प्रार्थना  431
प्रार्थना  432
विविध-प्रसंग
व्रत लेकर निभाओ 434
राम-नाम के प्रचार में संकोच क्यों ? 436
राम-नाम का पाठ-विग्न-विनाशक 440
त्यागवाद 444
अवतारवाद 446
जन्म-दिन 448
सहारे बिना निस्तारा नहीं 449
संतवाद 452
योग-साधन में अभ्यास 456
आत्म-जागृति 458
उपदेश का अनुशीलन हो 462
साधक कैसा होना चाहिए  463
जनसेवा  466
समाचार-पत्र तथा आधुनिक पुस्तकें 469
उद्घाटन - श्रीराम शरणम, पानीपत 471
अनुभूतियाँ  473
पूज्य श्री प्रेम जी महाराज की मुखारबिंद से  497
उपदेश 501
        प्रचारक 506
        श्रीराम शरणम्  508
संत वचन  508
सत्य-वचन 513
पूज्य श्री प्रेम जी महाराज की मुखारबिंद से  514
भावना 523
दोहे 523

सत्य-वचन, भावना, दोहे

प्रकाशक एंव प्राप्ति स्थान 

श्री स्वामी सत्यानन्द धर्मार्थ ट्रस्ट 
श्री राम शरणम 
८अ, रिंग रोड़ , लाजपत नगर - ४ 
नई दिल्ली - ११००२४ 
इंडिया

Download Audio of Shree Bhakti Prakash Ji Selected Chapters


 


Organization | Philosophy I  Peerage | Visual Gallery I Publications & Audio Visuals I Prayer Centers I Contact Us

InitiationSpiritual ProgressDiscourses I Articles I Schedule & Program I Special Events I Messages I  Archive

  Download | Search | Feed Back I SubscribeHome

Copyright   Shree Ram Sharnam,  International Spiritual Centre,

8A, Ring Road, Lajpat Nagar - IV,  New Delhi - 110 024, INDIA


Download MP3 Player to listen Audio  thanks to 

www.winamp.com and software.mp3.com