Home > Publications & Audio Visuals > Scriptures (Granth - Books)

वाल्मिकीय रामायणसार (पध, गद्य)

लेखक श्री स्वामी सत्यानन्द जी महाराज 

श्री राम

यदि आप मर्यादा - पुर्शोतम श्री भगवान राम चंद्र जी के परम पवित्र जीवन - चरित्र का पावन पाठ करना चाहते हैं तो रामायण-सार का पाठ करिये |
हिन्दी भाषा के सरस पदों में सचित्र रामायण-सार, एक सर्व सुंदर ग्रन्थ है |

विषय सूची 
बालकाण्ड अयोध्याकाण्ड आरण्यकाण्ड किष्किन्धाकाण्ड 
सुंदरकांड  | लंकाकाण्ड भरत-मिलाप-काण्ड परिशिष्ठ

वाल्मिकीय रामायणसार (पध, गद्य)
विषय  पृष्ठ

रामायण-माहात्म्य

1
अवतरणिका  4

मंगलाचरण

13
बालकाण्ड                 17

सर्ग  01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20

विषय  पृष्ठ
श्री वाल्मीकि जी का वर्णन 21
श्री वाल्मीकि जी का आश्रम 27
श्री नारद - वाल्मीकि मिलाप 28
वाल्मीकि के पूछने पर नारद जी ने श्री राम - चरित्र संक्षेप से वर्णन किया 29
स्वशिष्य भरद्वाज के साथ श्री वाल्मीकि जी का स्नानार्थ तमसा नदी पर जाना 32
क्रोंच - वध देखते ही कविता कला का अनुभव होना 33
राम - चरित रचने के लिए श्री ब्रह्मा जी की प्रेरणा 33
श्री वाल्मीकि जी का रामचरित्र वर्णन करना 33
राजा दशरथ का राज्य 38
राजा दशरथ का पुत्रेष्टि - यज्ञ 39
श्री रामचंद्र जी का जन्म 43
बाल - काल 46
विद्या ग्रहण करना 47
श्री रामचंद्र की योवनावस्था 50
विश्वामित्र जी का आगमन 51
विश्वामित्र जी का स्वसंग श्री राम लक्ष्मण को ले जाना 55
ताटिका वर्णन और हनन 58
श्री राम का जी सिधाश्रम में जाना 62
विश्वामित्र जी का यज्ञ, मौन और श्रीराम लक्ष्मण का स्वयं सेवकपन 65
मारिचादी असुरों का दमन 66
श्रीराम की विनीतता 67
श्रीरामचंद्र जी सहित मुनि संघ का सीता स्वयंबर के लिए प्रस्थान 70
अहिल्या शाप - मोचन 77
मिथिला में शुभागमन 79
जनक जी का विश्वामित्र जी के दर्शनार्थ आना 81
स्वयंबर मंडप में श्रीरामचंद्र जी का धनुष उठाना 83
श्रीरामचंद्र जी का विवाह 95
राम - बरात की विदाई 97
मार्ग में परशुराम जी का अड़ना 98
श्रीरामचंद्र जी का जन-मनोरंजन 104
अयोध्याकाण्ड            106

सर्ग  01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17
18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34

विषय 

पृष्ठ

श्रीरामचंद्र जी को सर्वगुणसम्पन्न जानकर दशरथ का उनको योवराज्य पद देने का निश्चय करना 110
प्रतिनिधि सभा में बैठक और सब सदस्यों का एकमत होना 114
मंथरा का कोप और कैकेयी को भड़काना 129
अंत में कैकेयी में वैम्नस्थ उत्पन्न हो जाना और उस का क्रोधागार में जा पड़ना 136
राजा दशरथ का हर्ष से राज - भवन में प्रवेश और कैकेयी को कुपित जान कर चिन्ता करना 138
उस को मानाने के प्रयत्न 139
रानी के दुराग्रह से दुखी होकर राजा का सुमंत्र को भेजकर श्री रामचंद्र जी को बुलवाना 151
श्री रामचंद्र जी का सुमंत्र सहित मध्यमा माँ के मन्दिर में आना 160
रामचंद्र जी को सन्मुख खड़ा देख कर राजा का चेतना शुन्य हो जाना 161
दशरथ जी अचेत थे उस समय कैकेयी ने उनको चोदह वर्ष का वनवास का आदेश सुनाया और प्रेरणा दी की तुरंत ही जाइए 163
राजचिंह त्याग कर श्रीरामचंद्र जी का कौशल्या जी के ग्रह में जाना और उसे बनवास की बात सुनाना 168
राम - माता का महारोदन | राम जी का उनको समझा कर शांत करना, उन से विदाई लेना 170
श्री रामचंद्र जी का सीता सदन में प्रवेश, सीता की व्याकुलता 179
श्री रामचंद्र जी का सीता जी को घर पे रहने का उपदेश, सीता जी का वन को साथ चलने का आग्रह 182
सीता जी के अत्याग्रह पर श्रीराम जी को उनको साथ ले जाना स्वीकार करना 191
श्री लक्ष्मण जी का सेवाव्रत 194
श्री राम, सीता, लक्ष्मण का दशरथ जी के पास आना उसकी व्याकुलता 198
कैकयी का श्री राम, लक्ष्मण को पहरान देना 203
सुमित्रा जी का लक्ष्मण जी को उपदेश 209
नगर जन की दशा 211
नगर के वृद्ध ब्राह्मण 212
तमसा तट पर प्रथम रात्रि 215
श्री राम की मातृ - भूमि को वन्दना 220
श्री राम का गंगा तीर पर जाना निषादराज का मिलना और सर्वस्व समर्पण करना 222
भरद्वाज का मिलाप 228
भरद्वाज के पथ - पदर्शक पर यमुना पार करना 229
चित्रकूप पर वाल्मीकि के आश्रम में निवास 232
राजा दशरथ का कौशल्या को स्वकर्म फल और श्रवण-वध की घटना सुनाना 240
राम - वियोग - वेदनावश राजा दशरथ का प्राणान्त 245
मंत्री - मंडल ने शासन संभाल कर भरत जी को बुलवाया 247
भरत जी का आना और सीधे निज माता के पास जाना 252
माता मुख से राम - निर्वासन सुन कर भरत का दुखित होना 253
श्री भरत जी की शपथें 255
राजा की देह दहन करने के अनन्तर, भरत का राज्य अस्वीकार कर श्री राम जी को पीछे लाने के लिए प्रस्ताव और यान 253
निषाद राजा की सावधानता 260
भरद्वाज का आतिथ्य 264
भरत - संघ का चित्रकूट पर जाना भरत जी का राम - चरणों पर पड कर रोदन और पिता का मरण सुनाना 270
भरत - जी को रामौप्देश 274
भरत जी का राम जी को लोटाने के लिए विनय करना, उनका न मानना 277
जाबाली का उपयोगी वाद 279
अंत में राम - पादुके सिर पर धर के भरत जी का लोट आना 285
नंदिग्राम में जाकर सिंहासन पर राम पादुके स्थापित करके उनकी और से भरत जी का शासन करना 286
आरण्यकाण्ड                288

सर्ग  01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 

विषय  पृष्ठ
भरत जी के चले जाने पर श्री राम का अत्रि के आश्रम पर जाना 289
सीता जी को अनसूया का उपदेश 290
श्रीरामजी शरभंगाश्रम में और मुनिमंडल का अभिनन्दन 297
श्रीराम, सुतीक्ष्ण मिलाप 301
श्रीराम, लक्ष्मण के हाथों में नंगी कृपाणे देख कर सीता जी का कथन और राम-समाधान 302
श्री अगस्त्याश्रम में राम का पधारना 307
ऋषि अगस्त्य ने उनको पंचवटी स्थान उत्तम बताया 308
पंचवटी में कुटी-निर्माण कर श्रीराम का रहना 310
एकदा शुर्पणखा का आना 311
शुर्पणखा का सीता जी को नोच खाने को लपकना, कृपाण से लक्ष्मण जो का उसे हटाना इससे उसकी नाक कट जाना 317
शुर्पणखा का जन-स्थान में जाकर खर आदि को भड़काना, उनका श्रीराम से युद्ध 318
खरादी का हनन, राम-विजय 324
जन स्थान के सर्वनाश के पश्चात् शुर्पणखा ने लंका में जाकर सीता के हरण करने को रावण को उद्दत किया 326
रावण का समुद्र पार करना महा मायावी मारीच को माया-युग बनना मनवाना 330
माया-मृग का सीता कुटी के समीप उछल-कूद करना 338
माया से सीता का मोहित होना लक्ष्मण के वर्जने पर श्रीराम मृग पकड़ने को गए 340
सीता अपहरण 346
जटायुजी का रावण के साथ युद्ध 347
रोदन करती हुई सीता ने ऋष्यमूक पर्वत पर आभुषण फैंके 349
रावण ने अशोक-वाटिका में सीता जी को बंदी बनाया 350
आश्रम में जाकर सीता वियोग से श्रीराम जी की व्याकुलता 352
श्रीराम जी ने जटायु की अंत्येष्टि की 360
किष्किन्धाकाण्ड        362

सर्ग  01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10 

विषय  पृष्ठ
शबरी जी का आतिथ्य करना 363
हनुमान जी की विनीतता 367
सुग्रीव जी संधि-सम्बन्ध में जुड़े 373
सीता जी के भूषणों की पहचान 376
बाली-वध 387
तारा का रोधन और रामोपदेश 388
गिरि प्रस्त्र्वन पर श्री राम का चतुर्मास 400
शरदागमन 405
सीता के वियोग की वेदना 406
लक्ष्मण का सुग्रीव को मिलना 411
प्रस्त्र्वन गिरि पर सुग्रीव के वीर दलों का एकत्रित होना 417
सीता की खोज में चारों और वीर दलों का जाना | जो वीर दक्षिण को गए उनमें अंगद हनुमान जी भी थे 418
दक्षिण वीरदल को जटायु के भाई संपति का मिलना और लंका में सीता है, बताना 422
सुंदरकांड                   428   
विषय  पृष्ठ
श्री हनुमान का समुद्र को पार करना 429
असुर वेश में, रात में, हनुमान जी का सीता जी को खोजना 431
हनुमान जी का अशोक वाटिका में प्रवेश 436
सीता जी को देख कर, वृक्ष पर चुप घटनाओं को देखना 439
अनुकूल अवसर पर, हनुमान जी ने सीता जी को स्वपरिचय और राम संदेश दिया 456
सीता-संदेश लेकर हनुमान जी का इस पार आ स्वसंघ को मिलना 474
सफल अंगद दल का किष्किन्धा को प्रस्थान करना 476
श्रीराम जी को हनुमान जी ने सीता का समाचार संदेश सुनाया 477
श्रीराम जी ने अत्यन्त आभार प्रकट कर, हनुमान जी को गले लगाया 479
 
लंकाकाण्ड                  481

सर्ग  01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10 | 11 | 12 | 13

विषय  पृष्ठ
सुग्रीव सेना की लंका पर चढाई रामयान 484
क्रमश: चलता दलबल सागर तीर जा पहुँचा 488
राम-सेना का स्थल बहुत ही सुरक्षित किया गया 489
उधर, रामयान सुन कर रावण की परामर्श सभा में परस्पर कलह 494
रावण ने चिढ कर विभीषण को लंका देश से बाहर कर दिया 500
इधर आ कर, विभीषण ने राम की शरण लेने की याचना की 503
श्रीराम ने विभीषण को शरण दी 506
नल का समुद्र पर पुल बांधना 509
सुग्रीव का स्वसेना पार ले जाना और व्यूह रचना करना 511
श्रीरामचंद्र जी ने अंगद को दूत बना कर रावण के पास भेजा 519
रावण ने अंगद को अपमान पूर्वक लौटा दिया 522
वानर-असुर समर 522
प्रथम दिन के संग्राम में असुर हत - प्रतिहत होकर दुर्ग में चले गए 526
रावण - सेना का अँधेरी रात में छापा मारना 526
मेघनाद का राम लक्ष्मण को नाग पाश से बांधना 529
ज्ञानी गरुड़ का उनके पाश तोडना 531
कुम्भ्कर्ण का भीषण युद्ध और राम द्वारा उसका हनन 538
लक्ष्मण-इन्द्रजित - समर और लक्ष्मण द्वारा इन्द्रजित का पतन 547
रावण का समर में आना, राम का सामना करना और उसका लक्ष्मण को मूर्छित कर भाग जाना 549
सुषेण वैध का लक्ष्मण जी को सचेत करना 552
अन्तिम दिन राम-लक्ष्मण का द्वंद युद्ध 554
रावण का राम-अस्त्र से धराशायी होना 556
भरत-मिलाप-काण्ड          558

सर्ग  01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07

विषय  पृष्ठ
रावण को मारा देख कर विभीषण विषाद 558
राम का आश्वासन देना 559
मंदोदरी - रोदन और राम का धैर्य देना 561
विभीषण को राज्यतिलक देना 564
राम-आज्ञा से हनुमान जी का जाकर सीता जी को विजय समाचार सुनाना 565
विभीषण का श्रीराम समीप सीता को लाना 567
सीता जी का अग्नि-परीक्षण 570
शिविर से ही सीता सहित पुष्पक विमान द्वारा, राम-प्रस्थान 576
श्री भरत - मिलाप 580
श्रीराम जी ने अयोध्या पहुँच कर पुष्पक विमान भी लोटा दिया 581
श्रीराम-राज्याभिषेक 583
श्री भरत जी को युवराज पद 585
श्रीराम - राज्य और उसका महत्व 586
परिशिष्ठ
विषय  पृष्ठ
नाम-महिमा 592
भक्ति - महत्व 594
रामकृपा 597
रामोपदेशषटक 598
रामायण पर एक ऐतिहासिक दृष्टि 609

 

प्रकाशक एंव प्राप्ति स्थान 

श्री स्वामी सत्यानन्द धर्मार्थ ट्रस्ट 
श्री राम शरणम 
८अ, रिंग रोड़ , लाजपत नगर - ४ 
नई दिल्ली - ११००२४ 
इंडिया

 


 


Organization | Philosophy I  Peerage | Visual Gallery I Publications & Audio Visuals I Prayer Centers I Contact Us

InitiationSpiritual ProgressDiscourses I Articles I Schedule & Program I Special Events I Messages I  Archive

  Download | Search | Feed Back I SubscribeHome

Copyright   Shree Ram Sharnam,  International Spiritual Centre,

8A, Ring Road, Lajpat Nagar - IV,  New Delhi - 110 024, INDIA