Home > Scriptures - Granth >

 भक्ति और भक्त के लक्षण 
Bhakti Aur Bhakt Ke Lakshan

eBook by Shree Ram Sharnam, New Delhi



धर्म में भक्ति-भाव, एक बड़ा उत्तम अंग है | इस के बिना धर्मवाद रस, सार और सौंदर्य रहित, मन्तव्यों का कोरा कलेवर हे रह जाता है | आस्तिक भावों के भव्य भवन की सुदृढ नींव भक्ति ही है | आत्मवाद के महा मन्दिर में प्रवेश करने के इच्छुक जन के लिए, एक मात्र मार्ग, भगवती भक्ति ही कही गई है | श्री भगवान् के श्री मुख-वाक्यों से ही, भगवती भक्ति के प्रकार और भागवत भक्त के लक्षण इस पुस्तिका में वर्णित किए गए हैं | 
 
 eBOOK - भक्ति और भक्त के लक्षण   PDF - भक्ति और भक्त के लक्षण

available at:
Shree Ram Sharnam
International Spiritual Centre
8A, Ring Road
Lajpat Nagar - IV
New Delhi - 110 024
India

प्रकाशक एंव प्राप्ति स्थान 
श्री स्वामी सत्यानन्द धर्मार्थ ट्रस्ट 
श्री राम शरणम 
८अ, रिंग रोड़ , लाजपत नगर - ४ 
नई दिल्ली - ११००२४   इंडिया

Organization | Philosophy I  Peerage | Visual Gallery I Publications & Audio Visuals I Prayer Centers I Contact Us

InitiationSpiritual ProgressDiscourses I Articles I Schedule & Program I Special Events I Messages I  Archive

 

  Download | Search | Feed Back I Subscribe | Home

Copyright   Shree Ram Sharnam,  International Spiritual Centre,

8A, Ring Road, Lajpat Nagar - IV,  New Delhi - 110 024, INDIA