Valmiki Ramayana Saar Bhakti Prakash Shrimad Bhagvad Gita Parvachan Piyush - Collection of Swami ji's Lectures Amritvani in Hindi With Vyakhya (Translation) Amritvani in English with Translation Ekadashopnishad Sangraha Bhajan Evam Dhwani Sangraha Upasak Ka Aantrik Jeevan in Hindi Upasak Ka Aantrik Jeevan in English Sthitpragaya Ke Lakshan Sunderkaand Prarthana Aur Uska Prabhav Bhakti aur Bhakt Ke Lakshan

श्री स्वामी सत्यानन्द जी महाराज के ग्रन्थ
Scriptures by

Shree Swami Satyanand Ji Maharaj

 

eBooks by Shree Ram Sharnam, New Delhi


 अमृतवाणी 

Amritvani

 

ऐसे वचन-शब्द समूह, जो अमृत हैं, ऐसे बोल जो अमरत्व प्रदान करते हैं - जो अमर बना देते हैं, ऐसी वाणी जिसके बोलने - गाने से व्यक्ति अमर हो जाता है, वह अमृतवाणी ... 

अमृतवाणी का नित्य गाना 
राम - राम मन बीच रमाना |
देता संकट - विपद निवार 
करता शुभ श्री मंगलाचार ||


भक्ति - प्रकाश 
Bhakti Prakash
जो भावनावान भावुक जन, भागवती भक्ति - भागीरथी में स्नान करने के इच्छुक हैं, जो भक्ति धर्म के मर्म को जानना चाहते हैं, और जो भक्ति योग के सच्चे, सरल, सरस, सुपथ पर चलने के अभिलाषी हैं उनको स्वामी सत्यानन्द - रचित, भक्ति - प्रकाश ग्रन्थ सुमननपूर्वक पढना चाहिए 
SELECT TOPIC
शब्द - प्रकाश      
मंगलाचार नमस्कार सप्तक पूजा पाठ आरती
ध्यान स्तुति प्रार्थना पुष्पांजलि

- प्रातः
- सायं
- सोते समय
- कार्य
- आजीविका
- भ्रातृभाव
- भोजन समय
-
भोज्नांतर

 
विनय कामना कमल कुंज प्रेम मधुर मिलाप
गुरू महिमा भक्ति लगन नाम की महिमा
सिमरन सेवा भक्त की भावना वियोग
अनुताप अश्रु प्रेम संदेश मतवाला योगी नन्दन वन
भरोसा मन मुमुक्षु संध्या राम कृपा अवतरण
समाधि घट मन्दिर कृतज्ञता ईश्वर स्वरूप - राम सत्स्वरूप है
राम ज्ञान स्वरूप है राम आनंद स्वरूप है राम सर्वशक्तिमान् है राम प्रेम स्वरूप है
राम मुनिजन अनुभूत वस्तु है लीला    
 
साधन - प्रकाश      
काया के साधन वचन के साधन पिशुनता तथा ईर्ष्या इन्द्रिय - संयम
आदर शुद्धि कुण्डलिनी प्रबोध काया - शोधक प्राणायाम मन को प्रबोधन
आत्मोद्बोधन अपने आप को उपदेश आत्मिक भावनाएं

- सत्य भावना
- ज्ञान भावना
- सुख भावना
- शक्ति भावना
- पवित्र भावना
- शांत भावना
- प्रिय भावना
- सफल भावना
- मनोबल भावना
- वैधुत भावना
- अनंत भावना
-
अहम भावना

नारायण धर्म्म

- यम्
- नियम
- निष्काम कर्म
- चार वर्ण
-
धर्म के दस लक्षण

वेद सार गीता सार

- आत्म ज्ञान
- कर्म योग
-
भक्ति

उपनिषत्सार

- कर्म
- ब्रह्म ज्ञान
- ब्रह्म ज्ञानी
- ब्रह्म पूजन
-
आत्म - ज्ञान

उपदेश मंजरी - ग्रन्थ पाठ
सत्संगति सज्जन मित्र गुणी
निर्गुणी अधिकारी सेवक सूरमा
स्वामी नेता एकता मूर्ख
चतुर जन जागृति नाना उक्तियाँ शिष्टाचार
 
भक्त - प्रकाश       
जनक जनक ज्ञान भागवत शुकदेव सुलभा
अष्टावक्र याग्वाल्क्या का आत्म - दर्शन भागवती गार्गी मैत्रियी
मैत्रियी पराशर संवाद भरद्वाज भक्त निषाद शबरी
परम भागवत शरभंग सती अनसूया अगस्त्य ऋषि मंदालसा
हनुमान जड़ भरत सनत्कुमार नारद
विभिक्षण सावित्री सुतीक्ष्ण देवहूती
विदुर जी ध्रुव प्रह्लाद भीष्म
युधिष्ठिर मुदगल मुनि अश्वपति शौनक
मार्कण्डेय कौशिक श्रवण तुलाधार
रामानंद समर्थ राम दास श्री शिवा जी श्री चैतैन्य
हरी दास सदना कसाई कुसुम्भी वेश्या तुका राम
महाराणा प्रताप सिंघ हकीकत राय बन्दा मीरा बाई
 
कथा - प्रकाश       
सिमरन सावित्री पाठ हरि भजन सेवा
दान सत्संग यज्ञ धर्म्म
कर्म्म सदाचार आलोचना प्रायश्चित
आपत्काल श्रद्धा भगवद्भक्ति बंधु भावना
दया अहिंसा ज्ञान तप
त्याग वैराग्य आत्म - सत्ता बंध और मोक्ष
वीरता सम भाव मानव जन्म की महत्ता प्रेम पथ

कठिन शब्दों के अर्थ
(Glossary of Difficult Words)

     

वाल्मिकीय रामायणसार (पध, गद्य)
Valmiki Ramayana-sar

यदि आप मर्यादा - पुर्शोतम श्री भगवान राम चंद्र जी के परम पवित्र जीवन - चरित्र का पावन पाठ करना चाहते हैं तो रामायण-सार का पाठ करिये | हिन्दी भाषा के सरस पदों में सचित्र रामायण-सार, एक सर्व सुंदर ग्रन्थ है |

  • eBOOK - वाल्मिकीय रामायणसार

विषय सूची 

 

रामायण-माहात्म्य  
अवतरणिका  
मंगलाचरण    
बालकाण्ड

सर्ग  - 01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20

अयोध्याकाण्ड

सर्ग 01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34

आरण्यकाण्ड

सर्ग 01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 

किष्किन्धाकाण्ड  

सर्ग 01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10 | 11  

सुंदरकांड  

सर्ग 01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10

लंकाकाण्ड

सर्ग 01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08 | 09 | 10 | 11 | 12 | 13

भरत-मिलाप-काण्ड

सर्ग 01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07

परिशिष्ठ - नाम-महिमा

 

भक्ति - महत्व    
रामकृपा  
रामोपदेश-षटक (01-06)   
परिशिष्ठ (अंतिम दोहा)    
  • PDF - वाल्मिकीय रामायणसार


श्रीमद्भगवद्गीता - भाषा भाष्य
Shrimad Bhagvad Gita
   

आप यदि, अनंद-कंद भगवान श्री कृष्ण चंद्र जी के उपदेशों के सार मर्म का महा मधुर स्वाद लेना चाहते हैं, तो स्वामी सत्यानन्द जी द्वारा किया गया गीता का सरल और सरस भाषानुवाद पदिये | 

भगवान् ने श्रीमुख से स्वयं कहा है कि गीता का पाठ करना और उस को सुनना सुनाना ज्ञान-यज्ञ है, उस से मैं पूजा जाता हूँ | पाठक को चाहिए के वह एक विश्वासी और श्रद्धावान यजमान बन कर बड़े गम्भीर भाव से इस यज्ञ को किया करे और इसको परमेश्वर का पुन्यरूप परम पूजन ही समझे | इस भावना से गीता का ज्ञान, पाठक के ह्रदय में, आप ही आप प्रकाशित होने लग जाया करता है |


PDF श्रीमद्भगवद्गीता - भाषा भाष्य (श्लोक  सहित)


एकादशोपनिषद संग्रह भाषा टीका सहित 
Akadashopnishad Sangraha

ईश, केन, कथ, प्रश्न, मुण्डक, माण्ङूक्य, तैतिरीय, ऐतरेय, छान्दोग्य, बृह्दारण्यक, और श्वेताश्वर  - ग्यारह उपनिषदों का हिन्दी अर्थ और व्याख्यान | प्रत्येक शब्द के अर्थ को जानने के लिए अंक दिए गए हैं | 

विषय सूची  
ईशोपनिषद्    
केनोपनिषद्     खण्ड  01 | 02 | 03 | 04
कठोपनिषद्   अध्याय  01 | 02  
प्रश्नोपनिषद् प्रश्न  01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06
मुण्डकोपनिषद्   मुण्डक  01 | 02 | 03
माण्डूक्योपनिषद्  
तैत्तिरीयपनिषद् शिक्षावल्ली | ब्रह्मवल्ली | भृगुवल्ली
ऐतरेयोयपनिषद्    
छान्दोग्योपनिषद् प्रपाठक  01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06 | 07 | 08
बृहदारण्यकोपनिषद् अध्याय  01 | 02 | 03 | 04 | 05
श्वेताश्वतरोपनिषद् अध्याय  01 | 02 | 03 | 04 | 05 | 06

प्रार्थना और उसका प्रभाव 
Prarthna Aur Uska Prabhav

प्रार्थना-पथ-प्रदर्शनी, यह लघु पुस्तक, प्रार्थना के प्रेमियों का पथ प्रदर्शन करे - इस उद्देश्य से प्रस्तुत की गई है | प्रार्थना एक प्रकार से मानसिक और शारीरिक दोनों दोषों को दूर करने के लिए अध्यात्म चिकित्सा है | यह अंत:करण के सूक्ष्मतर स्तर में जो दोष होते हैं उन को दूर कर देने में अचूक ओषध है | निज सत्ता को, स्व चैतन्य भाव को, विमल और विशुद्ध बना देने का, सर्व श्रेष्ठ साधन है तथा भक्ती मार्ग में परम पुरूष के परम धाम में पहुँचा देने का परम उपाय है | इस लघु पुस्तक में वर्णित साधनों को भली प्रकार मनन पूर्वक, पालन करने वाले सज्जन का अपना कल्याण तो अवश्य होगा ही और वह अन्य दु:खी व्यक्तियों को भी सुख शान्ति लाभ कराने में समर्थ हो जायेगा |


उपासक का आंतरिक जीवन
Upasak Ka Aantrik Jeevan
(Inner Life of the Devotee)

उपासक का जीवन - राम नाम के उपासक को राम नाम का जाप, जीवन का एक अंग बाना लेना उचित है ...
उपासक का विचार - निर्मल हो और उस के मन में भगवन के होने का पूरा निश्चय हो...
उपासक का आचार - मन, वाणी और काया से जो क्रियायें की जाती हैं, जो कर्म किए जाते हैं, उन्हीं को आचार चास्त्र के जानने वाले पंडित आचार कहते हैं ...
उपासक का व्यवहार - पारिवारिक बंधुओं से, सगे संबंधियों से, जाति बिरादरी के जनों से, मिलने जुलने वाले लोगों से, काम काज के शेत्र में, लेन देन के मैदान में, नोकरी सेवा के कामों में, जो दूसरों के साथ बर्ताव किया जाता है, उसी को समझ वाले सज्जन व्यवहार कहते हैं...
जन सेवा - दूसरे जनों को सहायता देना, उन के साथ सहानुभूति प्रकट करना, उन के अच्छे कामों में सहयोग देना और उन के लिए हितकर कर्म करना ये सब जन सेवा के अंग हैं ...उपासक का जीवन, उपासक का विचार, उपासक का आचार , उपासक का व्यवहार एंव जन सेवा ...

भक्ति और भक्त के लक्षण 
Bhakti Aur Bhakt Ke Lakshan

धर्म में भक्ति-भाव, एक बड़ा उत्तम अंग है | इस के बिना धर्मवाद रस, सार और सौंदर्य रहित, मन्तव्यों का कोरा कलेवर हे रह जाता है | आस्तिक भावों के भव्य भवन की सुदृढ नींव भक्ति ही है | आत्मवाद के महा मन्दिर में प्रवेश करने के इच्छुक जन के लिए, एक मात्र मार्ग, भगवती भक्ति ही कही गई है | श्री भगवान् के श्री मुख-वाक्यों से ही, भगवती भक्ति के प्रकार और भागवत भक्त के लक्षण इस पुस्तिका में वर्णित किए गए हैं | 

स्थित - प्रज्ञ के लक्षण 
 Sthitpragya Ke Lakshan

श्रीमद भगवद्गीता के दुसरे अध्याय के अन्तिम २१ तथा उन का शब्दार्थ और व्याख्या | स्थिर बुद्धि के लक्षण हैं | यह इस में बताया गया है | 

श्रीमदभगवदगीता सारे संसार के साहित्य में एक सर्वसुन्दर ग्रन्थ है | इसका तत्वज्ञान निरुपम और उच्चतम है | इसका अध्यात्मवाद सर्वश्रेष्ठ तथा व्यवहार में वर्तने योग्य है | ऐसे परम-पावन ग्रन्थ में एक भाग है, जिसमें स्थिर्मती मनुष्य के लक्षण वर्णन किए गए हैं, जो प्रत्येक कार्यक्षेत्र में कार्य करने वाले जन के लिए स्मरण, धारण, आचरण, में लाने और जीवन में बसाने योग्य हैं तथा परम उपयोगी हैं, वही भाग इस लघु पुस्तिका में प्रकाशित क्या गया है | प्रत्येक नर-नारी को चाहिए के वे इस भाग के श्लोकों को मननपूर्वक कण्ठाग्र करके प्रतिदिन उनका पावन पाठ किया करें |


भजन एवं ध्वनि संग्रह  
Bhajan Avam Dhavani Sangrah
 

प्रवचन पीयूष  
Pravachan Piyush

Collection of Swami Ji's Lectures   

प्रार्थना- हे तेजोमय परमेश्वर ! हमें इस संसार की यात्रा में सफलता के लिए सुपथ पर चलाइये | हमारी दुर्बलताओं को आप जानते हैं |अपने कुटिल रूपमय पापों को दूर करने में हम असमर्थ हैं | ऐसी शक्ति दीजिये कि हम उन सबसे पार पा सकें | तेरी कृपा अनन्त है | तेरी कृपा हमें सदैव उठाती रही है | हम तेरी कृपा का कभी ऋण नहीं चुका सकते | तेरे मंगलमय द्वार पर यह नमस्कार स्वीकार हो |        उपनिषद मंत्र.....


सुंदरकांड 
Sunderkand
  • श्री हनुमान का समुद्र को पार करना 
  • असुर वेश में, रात में, हनुमान जी का सीता जी को खोजना 
  • हनुमान जी का अशोक वाटिका में प्रवेश 
  • सीता जी को देख कर, वृक्ष पर चुप घटनाओं को देखना 
  • अनुकूल अवसर पर, हनुमान जी ने सीता जी को स्वपरिचय और राम संदेश दिया 
  • सीता-संदेश लेकर हनुमान जी का इस पार आ स्वसंघ को मिलना 
  • सफल अंगद दल का किष्किन्धा को प्रस्थान करना 
  • श्रीराम जी को हनुमान जी ने सीता का समाचार संदेश सुनाया 
  • श्रीराम जी ने अत्यन्त आभार प्रकट कर, हनुमान जी को गले लगाया 

परमात्म-मिलन

श्री स्वामी जी महाराज जी ने बड़ी ही सरल एवं मनोहारिणी शैली में इस व्याख्यान व लेख-संग्रह में ध्यान-योग साधना के विविध अंगों के रहस्य पर प्रकाश डालकर सामंजस्य स्थापित किया है । साधना-पथ के पथिक-जनों के लिए यह विवेचन अत्यन्त उपयोगी है, साथ ही श्रीरामशरणम की शुद्ध विचारधारा के प्रचार-कार्य में भी सहायक रहेगा । प्रस्तुत संकलन सन् १९२५ के पूर्व का है और इसे आंशिक संशोधन तथा परिवर्द्धन करके प्रकाशित किया गया है । इस पुस्तक से साधकों को अध्यात्म ज्ञान तथा व्यावहारिक ज्ञान की प्रेरणा प्राप्त होगी एवं उनका ज्ञानवर्द्धन भी होगा । इस विषय का विस्तृत ज्ञान का वर्णन वृहद रूप में श्री स्वामी ही महाराज ने अपने मौलिक एवं अनुपम ग्रन्थ 'भक्तिप्रकाश' में बड़ी सरल तथा सुबोध हिंदी भाषा में किया गया है । यह अवतरित ग्रन्थ पूर्ण आध्यात्मिक है । इसका पठन, मनन व् चिंतन कर और उसे आचरण में उतार कर अपने जीवन को सार्थक बनाया जा सकता है ।


INSPIRING EPISODES (English version)  Articles by Swami Dr. Shree Vishwa Mitter Ji Maharaj

भगवान के धाम में (Hindi version) पूज्य श्री गुरु महाराज जी द्वारा लिखे गए लेख

 

Published by Shree Swami Satyanand Dharmarth Trust

NEWSLETTER:  Satya Sahitya a Quartery Newsletter of Shree Ram Sharnam, International Prayer Centre, New Delhi

DOWNLOAD SATYA - SAHITYA

 

Glory of Ram Naam 

When Ujjain Prison Turned into Temple and Life-Convicts Became Priests! book Published by Shree Swami Satyanand Dharmarth Trust, New Delhi. Text & Photographs by Dr. Gautam Chatterjee, Translated by Shabnam Pardal

 

1st Edition 21st July 2005 (Guru Purnima)

 

Glory of Ram Naam

 

When Ujjain Prison Turned into Temple and Life-Convicts Became Priests!

2nd Revised Edition 2012 (BILINGUAL - In Hindi and English) Released on 19th August 2012

 


BILINGUAL BOOK - In Hindi and English:  JADUI RAM MAGIC of RAM NAAM Spiritual Revolution and Revelations in Tribal Jhabua by Dr. Gautam Chatterjee, Translated by Shabnam Pardal

  • Chapter 1 A Celecstial Order Jhabua...

  • Chapter 2 Jhabua - An Administrative Overview...

  • Chapter 3 Experiencing Magical Ram...

  • Chapter 4 Divine Revelations - Divya Anubhuti...

  • Thus Speaks Maharishi Dr. Vishwa Mitter Ji Maharaj...

Content List

 

Miraculous Ram - Miraculous Jhabua 

Aloukik Ram - Aloukik Jhabua

Mirroring the Divine Mind of Those who did crores of Jaap
Released on 15th April 2014  Chaitra Poornima (Birthday of Shree Swami Satyanand Ji Maharaj)

राम नाम चित साधना    

Inspirations from Teachings of Swamiji Satyanandji Maharaj (1868-1960)

e-Books by Dr. Gautam Chatterjee

 PARAM GURU RAM
 
 

available at:
Shree Ram Sharnam
International Spiritual Centre
8A, Ring Road
Lajpat Nagar - IV
New Delhi - 110 024
India

प्रकाशक एंव प्राप्ति स्थान 
श्री स्वामी सत्यानन्द धर्मार्थ ट्रस्ट 
श्री राम शरणम 
८अ, रिंग रोड़ , लाजपत नगर - ४ 
नई दिल्ली - ११००२४ 
इंडिया

Organization | Philosophy I  Peerage | Visual Gallery I Publications & Audio Visuals I Prayer Centers I Contact Us

InitiationSpiritual ProgressDiscourses I Articles I Schedule & Program I Special Events I Messages I  Archive

 

  Download | Search | Feed Back I Subscribe | Home

Copyright   Shree Ram Sharnam,  International Spiritual Centre,

8A, Ring Road, Lajpat Nagar - IV,  New Delhi - 110 024, INDIA