Home > Scriptures - Granth >

उपासक का आंतरिक जीवन
Upasak Ka Aantrik Jeevan
(Inner Life of the Devotee)

 eBook by Shree Ram Sharnam, New Delhi


  • उपासक का जीवन - राम नाम के उपासक को राम नाम का जाप, जीवन का एक अंग बाना लेना उचित है ...

  • उपासक का विचार - निर्मल हो और उस के मन में भगवन के होने का पूरा निश्चय हो...

  • उपासक का आचार - मन, वाणी और काया से जो क्रियायें की जाती हैं, जो कर्म किए जाते हैं, उन्हीं को आचार चास्त्र के जानने वाले पंडित आचार कहते हैं ...

  • उपासक का व्यवहार - पारिवारिक बंधुओं से, सगे संबंधियों से, जाति बिरादरी के जनों से, मिलने जुलने वाले लोगों से, काम काज के शेत्र में, लेन देन के मैदान में, नोकरी सेवा के कामों में, जो दूसरों के साथ बर्ताव किया जाता है, उसी को समझ वाले सज्जन व्यवहार कहते हैं...

  • जन सेवा - दूसरे जनों को सहायता देना, उन के साथ सहानुभूति प्रकट करना, उन के अच्छे कामों में सहयोग देना और उन के लिए हितकर कर्म करना ये सब जन सेवा के अंग हैं ...

  • उपासक का जीवन, उपासक का विचार, उपासक का आचार , उपासक का व्यवहार एंव जन सेवा ...

eBOOK - उपासक का आंतरिक जीवन

PDF - उपासक का आंतरिक जीवन  

WATCH VIDEO & READ at WEBSITE उपासक का आंतरिक जीवन   Read by Km. Shabnam Pardal Ji

 

 

eBOOK - Inner Life of the Devotee

PDF - Inner Life of the Devotee   

available at:
Shree Ram Sharnam
International Spiritual Centre
8A, Ring Road
Lajpat Nagar - IV
New Delhi - 110 024
India

प्रकाशक एंव प्राप्ति स्थान 
श्री स्वामी सत्यानन्द धर्मार्थ ट्रस्ट 
श्री राम शरणम 
८अ, रिंग रोड़ , लाजपत नगर - ४ 
नई दिल्ली - ११००२४   इंडिया

Organization | Philosophy I  Peerage | Visual Gallery I Publications & Audio Visuals I Prayer Centers I Contact Us

InitiationSpiritual ProgressDiscourses I Articles I Schedule & Program I Special Events I Messages I  Archive

 

  Download | Search | Feed Back I Subscribe | Home

Copyright   Shree Ram Sharnam,  International Spiritual Centre,

8A, Ring Road, Lajpat Nagar - IV,  New Delhi - 110 024, INDIA