Home > Scriptures - Granth >

 स्थित - प्रज्ञ के लक्षण 
 Sthitpragya Ke Lakshan

 eBook by Shree Ram Sharnam, New Delhi


श्रीमद भगवद्गीता के दुसरे अध्याय के अन्तिम २१ तथा उन का शब्दार्थ और व्याख्या | स्थिर बुद्धि के लक्षण हैं | यह इस में बताया गया है |  श्रीमदभगवदगीता सारे संसार के साहित्य में एक सर्वसुन्दर ग्रन्थ है | इसका तत्वज्ञान निरुपम और उच्चतम है | इसका अध्यात्मवाद सर्वश्रेष्ठ तथा व्यवहार में वर्तने योग्य है | ऐसे परम-पावन ग्रन्थ में एक भाग है, जिसमें स्थिर्मती मनुष्य के लक्षण वर्णन किए गए हैं, जो प्रत्येक कार्यक्षेत्र में कार्य करने वाले जन के लिए स्मरण, धारण, आचरण, में लाने और जीवन में बसाने योग्य हैं तथा परम उपयोगी हैं, वही भाग इस लघु पुस्तिका में प्रकाशित क्या गया है | प्रत्येक नर-नारी को चाहिए के वे इस भाग के श्लोकों को मननपूर्वक कण्ठाग्र करके प्रतिदिन उनका पावन पाठ किया करें |

 eBOOK - स्थित - प्रज्ञ के लक्षण     PDF - स्थित - प्रज्ञ के लक्षण 

available at:
Shree Ram Sharnam
International Spiritual Centre
8A, Ring Road
Lajpat Nagar - IV
New Delhi - 110 024
India

प्रकाशक एंव प्राप्ति स्थान 
श्री स्वामी सत्यानन्द धर्मार्थ ट्रस्ट 
श्री राम शरणम 
८अ, रिंग रोड़ , लाजपत नगर - ४ 
नई दिल्ली - ११००२४   इंडिया


Organization | Philosophy I  Peerage | Visual Gallery I Publications & Audio Visuals I Prayer Centers I Contact Us

InitiationSpiritual ProgressDiscourses I Articles I Schedule & Program I Special Events I Messages I  Archive

 

  Download | Search | Feed Back I Subscribe | Home

Copyright   Shree Ram Sharnam,  International Spiritual Centre,

8A, Ring Road, Lajpat Nagar - IV,  New Delhi - 110 024, INDIA